National News - राष्ट्रीयफीचर्ड

ओडिशा के तट पर पहुंचा फैलिन, 6 लोगों की मौत,तेज हवाएं और भारी वर्षा

seaगोपालपुर (ओडिशा)। भीषण चक्रवाती तूफान फैलिन शनिवार रात ओडिशा के तट पर पहुंचा। राज्य और निकटवर्ती उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश में मूसलाधार बारिश हुई और 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलीं। ओडिशा के तटीय जिलों, खासतौर से गंजाम, जहां का गोपालपुर-आन-सी तूफान का प्रवेश बिंदु था, में चारों तरफ अंधकार था, तूफान के वेग के कारण पेड़ और बिजली के खंबे उखड़ गए। भारी वर्षा के कारण लोग घरों के भीतर रहे और सड़कों पर वाहन रुक गए। राजधानी भुवनेश्वर के अलावा राज्य के तटीय जिलों गजपति, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर, नयागढ़, कटक, भद्रक और केन्द्रपाड़ा में भारी से बहुत भारी बारिश हुई। हालांकि चक्रवात से हुए नुकसान के बारे में अभी मालूम नहीं हो सका, लेकिन तूफान से पहले ओडिशा में भारी वर्षा के कारण 6 लोगों की मौत हो गई।

  मौसम विभाग के महानिदेशक एलएस राठौर ने नई दिल्ली में बताया कि चक्रवात ने गोपालपुर कस्बे के बहुत नजदीक रात नौ बजे के करीब दस्तक दी और ओडिसा के तट को पार करना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि अभी चक्रवात की रफ्तार बढ़ने की आशंका बनी हुई है और यह छह घंटे तक बहुत भीषण रह सकता है। तटीय इलाके में पहुंचने के बाद भी इसके वेग में कोई ज्यादा कमी नहीं आने वाली। उन्होंने बताया कि चक्रवात के कारण अगले 12 से 24 घंटे में पूर्वी भारत के बड़े भूभाग में मध्यम बारिश हो सकती है। उन्होंने इस बात से इंकार किया कि फेलिन एक महा चक्रवात है। चक्रवात के कारण करीब छह लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। इनमें ओडिशा के साढ़े चार और आंध्र प्रदेश के एक लाख से अधिक लोग शामिल हैं। आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विजयनगरम और विशाखापतनम जिलों के निचले इलाकों में रहने वाले एक लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।  श्रीकाकुलम जिले में खास तौर से हाई अलर्ट जारी किया गया है क्योंकि वमसाधारा, नागावली और बहुदा नदियां भारी वर्षा के कारण उफन सकती हैं। पश्चिम बंगाल में आपदा प्रबंधन, नागरिक रक्षा और राहत दलों को दीघा, शंकरपुर, कोंताई, मंदरमणि, डायमंड हारबर और सुंदरबन के कुछ इलाकों में भेजा गया है। मौसम विभाग ने पूर्वी और पश्चिमी मिदनापुर, उत्तर और दक्षिण 24 परगना, हावड़ा, हुगली, बांकुड़ा, वर्धमान और पुरूलिया जिलों में अगले 48 घंटों में भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी दी है। इस दौरान कोलकाता में हलकी से मध्यम वर्षा हो सकती है। चक्रवात के सीधे प्रभाव में आने वाले इलाकों में सेना, वायु सेना, नौसेना, सीआरपीएफ और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल के जवानों को तैनात किया गया है। चक्रवात का केन्द्र गोपालपुर के 150 किलोमीटर दक्षिणपूर्व और परादीप के 260 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में है। चक्रवात के कारण हावड़ा और विशाखापतनम के बीच चलने वाली सभी रेलगाड़ियां रद्द कर दी गई हैं। ओडिशा की तटीय रेखा के इलाकों और आंध्र प्रदेश के तीन तटीय जिलों में एहतियात के तौर पर बिजली आपूर्ति रोक दी गई है। फैलिन की वजह से विमान और रेल यातायात प्रभावित हुआ है और राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात रोक दिया गया है। एयर इंडिया, इंडिगो और जेट एयरवेज की भुवनेश्वर आने अथवा जाने वाली कम से कम 10 उड़ानों को रदद कर दिया गया है। बीजू पटनायक अन्तरराष्ट्रीय हवाई अडडे के निदेशक सरद कुमार ने यह जानकारी दी।

 

Unique Visitors

13,456,610
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... A valid URL was not provided.

Related Articles

Back to top button