International News - अन्तर्राष्ट्रीय

चीन ने अमेरिकी अधिकारियों, संस्थाओं पर लगाए प्रतिबंध

बीजिंग: हॉन्गकॉन्ग में चीनी अधिकारियों पर हाल ही में अमेरिकी प्रतिबंधों के प्रति जवाबी कार्रवाई में चीन ने कई अमेरिकी व्यक्तियों और संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं। इन लक्षित लोगों में पूर्व अमेरिकी वाणिज्य सचिव, विल्बर रॉस भी शामिल हैं। शनिवार को बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, यह प्रतिबंध अमेरिकी उप विदेश मंत्री वेंडी शेरमेन के आगामी चीन के दौरे से पहले आई है।

हॉन्गकॉन्ग में चीनी अधिकारियों पर अमेरिकी प्रतिबंध क्षेत्र में सुरक्षा कार्रवाई में उनकी भूमिका के कारण थे। वॉशिंगटन ने अपने व्यापारिक समुदाय को हॉन्गकॉन्ग में परिचालन के बढ़ते जोखिमों के बारे में भी चेतावनी दी। चीन ने पिछले साल बड़े पैमाने पर लोकतंत्र समर्थक विरोध प्रदर्शनों के जवाब में हॉन्गकॉन्ग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पेश किया था। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा अनुमोदित कानून के मुताबिक, विदेशी शक्तियों के साथ अलगाव, तोड़फोड़, आतंकवाद और मिलीभगत का अपराधीकरण किया जाएगा और ऐसे अपराधों में दोषी पाए गए लोग जेल में आजीवन कारावास की सजा भुगत सकते हैं।

चीन के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि हाल के अमेरिकी प्रतिबंधों को हॉन्गकॉन्ग के कारोबारी माहौल को आधारहीन रूप से धब्बा और अंतर्राष्ट्रीय कानूनों और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों को नियंत्रित करने वाले बुनियादी मानदंडों का गंभीर उल्लंघन करने के लिए डिजाइन किया गया था। इस बयान में आगे कहा गया कि वह रॉस सहित सात अमेरिकी व्यक्तियों और संस्थाओं पर प्रतिबंध लगाएगा। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के शासनकाल वाणिज्य सचिव के रूप में रॉस ने उन फर्मों की संख्या का विस्तार किया, जो बिना पूर्व लाइसेंस के अमेरिकी फर्मों के साथ व्यापार नहीं कर सकती थीं, जिनमें हुआवे और जेडटीई जैसे चीनी दूरसंचार कंपनियां शामिल थीं।

चीन द्वारा स्वीकृत अन्य में शामिल हैं सोफी रिचर्डसन, ह्यूमन राइट्स वॉच की चीन निदेशक कैरोलिन बाथोर्लोम्यू, अमेरिका-चीन आर्थिक और सुरक्षा समीक्षा आयोग के अध्यक्ष और इंटरनेशनल रिपब्लिकन इंस्टीट्यूट के एडम किंग। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने संवाददाताओं से कहा कि चीन की जवाबी कार्रवाई से अमेरिका अप्रभावित है।

  1. देश दुनिया की ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहेंhttp://dastaktimes.org/ के साथ।
  2. फेसबुक पर फॉलों करने के लिए https://www.facebook.com/dastaklko
  3. ट्विटर पर पर फॉलों करने के लिए https://twitter.com/TimesDastak
  4. साथ ही देश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों केन्यूजवीडियो’ आप देख सकते हैं।
  5. youtube चैनल के लिए https://www.youtube.com/channel/UCtbDhwp70VzIK0HKj7IUN9Q

Related Articles

Back to top button