National News - राष्ट्रीय

छोटा राजन को भारत लाने इंडोनेशिया पहुंची CBI-पुलिस की टीम

दस्तक टाइम्स/एजेंसी:

chhota rajaबाली : ऑस्ट्रेलिया से आने के बाद गिरफ्तार किये गये अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन से आज इंडोनेशिया के पुलिस हिरासत केंद्र में एक भारतीय राजनयिक ने मुलाकात की। वहीं, छोटा राजन को भारत लाने के लिए सीबीआई, दिल्ली और मुंबई पुलिस की संयुक्त टीम इंडोनेशिया पहुंच गई है। सूत्रों ने कहा कि प्रथम सचिव (वाणिज्य दूतावास) संजीव कुमार अग्रवाल ने हिरासत केंद्र में करीब आधे घंटे तक राजन से बातचीत की, जहां उसे पिछले रविवार को गिरफ्तार करने के बाद से रखा हुआ है। जकार्ता के भारतीय दूतावास में पदस्थ अग्रवाल आज सुबह बाली पहुंचे और सीधे 55 वर्षीय राजन से मुलाकात के लिए पुलिस हिरासत केंद्र गये। दो दिन पहले ही इंडोनेशियाई पुलिस ने राजन की हिरासत के बारे में भारतीय दूतावास में रिपोर्ट जमा की थी। राजन को जिस समय बाली हवाई अड्डे पर गिरफ्तार किया गया था, उसके पास मोहन कुमार नाम से भारतीय पासपोर्ट था। इंडोनेशिया में भारतीय राजदूत गुरजीत सिंह ने शुक्रवार को कहा था कि राजन के भारत निर्वासन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, लेकिन इसके लिए कोई समयसीमा नहीं है।
राजन ने वकील के तौर पर फ्रांसिको प्रसार की सेवाएं भी ली हैं, जिन्होंने उससे दो दिन पहले हिरासत केंद्र में मुलाकात की थी। राजेंद्र सदाशिव निकाल्जे मूल नाम वाले छोटा राजन की पहचान और भारत में उसकी आपराधिक गतिविधियों की पुष्टि के लिहाज से इंडोनेशियाई पुलिस पिछले कुछ दिन में उससे कई बार पूछताछ कर चुकी है। हत्या, जबरन वसूली से लेकर तस्करी और ड्रग तस्करी तक के 75 से अधिक जघन्य अपराधों में वांछित राजन से अंग्रेजी में और दुभाषिये के जरिये हिंदी में भी सवाल-जवाब किये गये। एक समय दाऊद इब्राहिम का करीबी रहा और बाद में उसका दुश्मन बन गया राजन कह चुका है कि उसे 1993 के मुंबई श्रृंखलाबद्ध बम विस्फोटों के मुख्य आरोपी दाऊद से डर नहीं लगता। मुंबई में जन्मे राजन को इंटरपोल के रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर यहां गिरफ्तार किया गया था। वह पिछले दो दशक से अधिक समय से एजेंसियों को चमका दे रहा था।

Related Articles

Back to top button