National News - राष्ट्रीयPolitical News - राजनीतिState News- राज्यदिल्लीफीचर्ड

महिला आयोग का कदम राजनीति से प्रेरित : भारती

 

smनई दिल्ली। कानून मंत्री सोमनाथ भारती ने शनिवार को कहा कि उन पर लगे आरोप झूठे हैं और दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) द्वारा उनके खिलाफ उठाया गया कदम उन्हें बदनाम करने के लिए रचा जा रहा षडयंत्र और राजनीति से प्रेरित है। राष्ट्रीय महिला आयोग ने शनिवार को दिल्ली के कानून मंत्री सोमनाथ भारती के बयान की आलोचना की है। मंत्री का समर्थन कर रही आम आदमी पार्टी (आप) ने कहा कि डीसीडब्ल्यू प्रमुख का राजनीतिक उद्देश्य है और आप पद के राजनीतिकरण का मजबूती से विरोध करता है। दिल्ली के कानून मंत्री मामले की जांच के संबंध में शुक्रवार को महिला आयोग के समक्ष पेश नहीं हुए। आयोग ने इसके बाद कहा था कि वह इस मामले को उपराज्यपाल नजीब जंग के सामने उठाएगा। डीसीडब्ल्यू के सदस्यों और मंत्री के वकील के बीच इस दौरान बहस भी हुई। डीसीडब्ल्यू अफ्रीकी महिलाओं की संलिप्तता वाले मादक पदार्थों की तस्करी व देह व्यापार के कथित मामले के खिलाफ मंत्री नीत भीड़ की कार्रवाई करने की जांच कर रही है। भारती ने कहा ‘‘बरखा सिंह कांग्रेस की सदस्या हैं और वह राजनीति से पे्ररित होकर काम कर रही हैं।’’ कानून मंत्री ने संवाददाताओं से कहा ‘‘मुझ पर लगे सभी आरोप झूठे हैं। यह मुझे बदनाम करने का षड्यंत्र है। यह बिल्कुल गलत और अफसोसजनक है।’’ मंत्री का बचाव करते हुए आप ने वक्तव्य जारी कर कहा ‘‘आप डीसीडब्ल्यू की अध्यक्ष द्वारा पद के राजनीतिकरण का मजबूती से विरोध करता है। कांग्रेस की पूर्व विधायक और डीसीडब्ल्यू की अध्यक्ष की मामले पर विवाद खड़ा करने की कोशिश स्पष्ट रूप से उनके राजनीतिक उद्देश्य को दर्शाती है।’’ आप ने भारती के पक्ष को स्पष्ट करते हुए कहा ‘‘पर्यटन विभाग की भी जिम्मेदारी संभाल रहे भारती को पर्यटन विभाग में अपराह्न तीन बजे आधिकारिक बैठक में शामिल होना था जिसके बाद उपराज्यपाल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जाना था। दोनों कार्यक्रम पूर्व से तय थे और इसलिए भारती अपने वकील के जरिए डीसीडब्ल्यू को सूचित करना चाहते थे कि वह आयोग के सामने दूसरे दिन पेश होंगे।’’ मंत्री के बयान पर टिप्पणी करते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य निर्मला सावंत प्रभावलकर ने कहा ‘‘यह उनकी राजनीतिक लड़ाई है वह राजनीतिक उद्देश्यों के लिए आयोग को उसमें नहीं खींच सकते।’’ आयोग की सदस्य ने कहा कि संवैधानिक रूप से नियुक्त संस्था को दिल्ली के कानून मंत्री द्वारा चुनौती देना अनुपयुक्त है। उधर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष बरखा सिंह ने कहा कि भारती के खिलाफ उठाया गया कदम किसी भी तरह राजनीति से प्रेरित नहीं है। यह एक सामान्य जांच है। और जिस प्रकार के आरोप वह लगा रहे हैं इससे स्पष्ट है कि वह जानते हैं कि वह दोषी हैं।

 

Related Articles

Back to top button