National News - राष्ट्रीयउत्तर प्रदेशफीचर्ड

मोदी ने की संत शोभन सरकार की प्रशंसा

soनई दिल्ली (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में खजाने की खोज का उपहास करने के कुछ दिनों के बाद गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने खजाने का सपना देखने वाले संत शोभन सरकार के प्रति सम्मान प्रदर्शित किया। भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार मोदी ने कहाकि हजारों लोग वर्षों से संत शोभन सरकार में आस्था रखते हैं। मैं उनके संयम और त्याग का सम्मान करता हूं।’’पिछले हफ्ते चेन्नई में एक रैली के दौरान मोदी ने डौंडियाखेड़ा में राजा राव रामबख्श सिंह के किले में खजाने के लिए खुदाई करने के केंद्र सरकार के फैसले पर कहा कि पूरी दुनिया ‘हमारा मजाक बना रही है।’ मोदी ने ट्विटर पर अपनी बात रखते हुए सोमवार को यह भी मांग की कि केंद्र सरकार काले धन पर श्वेत पत्र लाए।

मोदी के दूत ने शोभन सरकार के सामने दी सफाई

कानपुर (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के डौंडियाखेड़ा में चल रही खुदाई को लेकर आमने सामने आए गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और संत शोभन सरकार के बीच अब मामला सुलझ गया है। भाजपा के कानपुर से विधायक सतीश महाना ने सोमवार को शोभन सरकार से मुलाकात कर मोदी के बयानों को लेकर पैदा हुए भ्रम को दूर किया। भाजपा के विधानसभा में सचेतक सतीश महाना ने कहा, ‘मैं शोभन सरकार से मिलने गया था। मोदी का बयान आने के बाद जो भ्रम पैदा हुआ था  उसे ही दूर किया गया। बाबा शोभन सरकार बहुत ही सम्मानित व्यक्ति हैं। महाना ने कहा कि शोभन सरकार को यह बताने की कोशिश की गई कि मोदी ने अपना बयान कांग्रेस को लेकर दिया था न कि संत के बारे में। इसे गलत तरीके से शोभन सरकार के सामने रखा गया। उन्होंने कहा कि महंत शोभन सरकार ने मामले की गम्भीरता को समझ लिया है और उनका भ्रम भी दूर हो गया है। साथ ही भाजपा नेता महाना ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि देश का धन वास्तव में कांग्रेस ने छुपा कर रखा है  जिसे खोजा जाना चाहिए। उल्लेखनीय है कि शोभन सरकार ने नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी थी जिसमें उन्होंने भाजपा सरकार पर कई तरह का आरोप लगाया था। पत्र के सामने आने के बाद हालांकि मोदी ने ट्विटर के माध्यम से शोभन सरकार के प्रति नरमी दिखायी थी।

Unique Visitors

13,412,149
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button