International News - अन्तर्राष्ट्रीयफीचर्ड

यूक्रेन में प्रदर्शनकारियों ने गिरफ्तार साथियों को रिहा कराया

ukलंदन। यूक्रेन में रविवार को रूस समर्थक प्रदर्शनकारियों ने आक्रामक रुख अख्तियार करते हुए देश के बंदरगाह शहर ओडेस्सा के पुलिस मुख्यालय पर धावा बोल दिया और वहां शुक्रवार को हुई हिंसा के सिलसिले में बंद कई प्रदर्शनकारियों को छुड़ा लिया।यूक्रेन के प्रधानमंत्री पुलिस पर हिंसा रोकने में ढिलाई बरतने का आरोप लगाते हुए जांच के आदेश दिए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा है कि अधिकारी अक्षम हैं और उन्होंने कानून के मुताबिक काम नहीं किया है।बीबीसी के मुताबिक रविवार को रूस समर्थक प्रदर्शनकारियों ने ओडेस्सा में पुलिस मुख्यालय पर हमला बोल दिया और हिरासत में लिए गए कई लोगों को छुड़ा लिया। यूके्रन के इसी शहर में दो दिनों पहले शुक्रवार को सरकार विरोधी और सरकार समर्थक प्रदर्शनकारियों के बीच बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी जिसमें दर्जनों लोग मारे गए थे।शुक्रवार को यूक्रेन समर्थकों ने ट्रेड यूनियन की एक इमारत में आग लगा दी  जिसमें धुएं के कारण दम घुटने से 3० लोगों की मौत हो गई  जबकि आग से बचने की कोशिश में इमारत की खिड़कियों से छलांग लगाने के कारण आठ लोगों की मौत हो गई। इस भवन पर रूस समर्थक प्रदर्शनकारियों ने कब्जा कर रखा था।सरकार समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसात्मक झड़प में शुक्रवार को 43 लोग मारे गए थे और 174 अन्य घायल हो गए थे। मरने वालों में ज्यादातर रूस समर्थक प्रदर्शनकारी शामिल थे। इस घटना पर रूस ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए यूक्रेन के अधिकारियों से संयम बरतने की सलाह दी थी और हिंसा के माहौल में देश में राष्ट्रपति चुनाव कराने की चल रही कवायद को हास्यास्पद करार दिया था।अपने क्षेत्र के लिए व्यापक स्वायत्तता और रूस के साथ करीबी रिश्ता बनाने की मांग कर रहे रूस समर्थक प्रदर्शनकारियों ने यूरोप के सैन्य पर्यवेक्षकों को बंदी बना लिया था जिन्हें रिहा कराने के लिए शुक्रवार को यूक्रेन ने अभियान चलाया था। अभियान के बाद 25 अप्रैल से बंधक पर्यवेक्षकों को रिहा करा लिया गया लेकिन इस कार्रवाई के दौरान प्रदर्शनकारियों ने यूके्रन के दो हेलीकाप्टरों को मार गिराया।रविवार को पुलिस मुख्यालय के बाहर सैकड़ों लोग जमा हो गए और शुक्रवार के उपद्रव के बाद गिरफ्तार किए गए लोगों को रिहा करने की मांग की।इस बीच यूक्रेन के प्रधानमंत्री अर्सेनी यात्सेनयुक ने पुलिस पर हिंसा रोकने में विफल रहने का आरोप लगाया है।उन्होंने घटना की विस्तृत जांच का आदेश दिया है और कहा है कि अधिकारियों ने प्रदर्शन रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। उन्होंने कहा है अधिकारी अक्षम हैं और उन्होंने कानून का उल्लंघन किया है।उन्होंने हालांकि कहा है कि यह उपद्रव यूक्रेन को तबाह करने की रूस की योजना का हिस्सा है।

Unique Visitors

13,066,027
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button