International News - अन्तर्राष्ट्रीय

लापता विमान की तलाशी का दायरा कम हुआ

viबीजिंग/कैनबरा। आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबॉट ने शनिवार को कहा कि मलेशिया एअरलाइन्स के लापता विमान की तलाश का क्षेत्र कम किया गया है। यहां तक कि विमान के ब्लैकबॉक्स तक संकेत देना बंद करने से पहले पहुंचने की अवधि बीतती जा रही है। बीजिंग में एक संवाददाता सम्मेलन में शनिवार को एबॉट ने कहा  ‘‘हां हमने तलाशी का क्षेत्र घटा दिया है। लेकिन जमीन से 1००० किलोमीटर दूर समुद्र की सतह में 4.5 किलोमीटर की गहराई में तलाशने की कोशिश कर रहे हैं। यह एक बड़ा काम है और यह जारी रहेगा।’’अस्टे्रलियाई समुद्री सुरक्षा प्राधिकरण (एएमएसए) ने तलाशी का क्षेत्र 42 393 वर्ग किलोमीटर कर दिया है। शुक्रवार को तलाशी क्षेत्र 46 713 डब्ल्यूए था। संकेत तेजी से आ-जा रहे हैं और चालक दल ब्लैक बाक्स से मिलने वाले संकेत की खोज करने के लिए तलाशी क्षेत्र को और समेट सकते हैं। शनिवार को सवेरे वायु और समुद्र दोनों ही जरिए से तलाशी दल ने हिंद महासागर में करीब 41 393 वर्ग किलोमीटर की तलाशी ली। क्षेत्र का केंद्र पर्थ से 2331 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में है। शनिवार को तलाशी में सेना के नौ विमान  एक नागरिक विमान और 14 पोत तैनात किए गए थे। आस्ट्रेलिया के ज्वाइंट एजेंसी कोआर्डिनेशन सेंटर (जेएसीसी) ने कहा है  ‘‘आस्ट्रेलिया के रक्षा पोत (एडीवी) ओसियन शील्ड टावेड पिंजर लोकेटर की मदद से ब्लैक बाक्स की खोज पर ध्यान केंद्रित किए हुए है और संकेतों को पकड़ने में जुटा है।’’रॉयल आस्ट्रेलियाई एयर फोर्स (आरएएएफ) पी-3सी ओरियन ने गुरुवार को एडीवी ओसियन शील्ड के इलाके में संदिग्ध संकेत पाया था। जेएसीसी के प्रमुख एंगस ‘ूस्टन ने कहा है  ‘‘आस्ट्रेलियन ज्वाइंट एकोयूस्टिक एनेलासिस सेंटर ने आंकड़े का परीक्षण किया है और कहा है कि संदिग्ध संकेत लापता विमान के ब्लैक बाक्स से संबंधित हो सकता है।’’ समुद्र की सतह के अलावा पानी के भीतर भी तलाशी का काम जारी है। ओसियन शील्ड उत्तरी छोर पर और चीनी पोत हैक्सुन ०1 एवं एचएमएस इको दक्षिणी छोर पर इस काम में जुटे हैं। रविवार को अमेरिकी पिंजर लोकेटर ने पर्थ के उत्तर पश्चिम में करीब 17०० किलोमीटर की दूरी पर दो अलग-अलग संकेत पाए थे।पहला संकेत दो घंटा 2० मिनट तक रहा। इसके कुछ घंटे बाद दूसरा संकेत मिला जो 13 मिनट तक रहा। दोनों संकेतों में 18०० मीटर की दूरी थी।

Related Articles

Back to top button