National News - राष्ट्रीयफीचर्ड

सुब्रत राय ने पेश किया नया प्रस्ताव

subनई दिल्ली। न्यायिक हिरासत से रिहाई के लिए सर्वोच्च न्यायालय के 1० करोड़ रुपये जमा करने के निर्देश का पालन करने के लिए सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत राय ने गुरुवार को एक नया प्रस्ताव पेश किया है। यह 24 हजार करोड़ रुपये की उस राशि का एक हिस्सा है  जो राय को निवेशकों को लौटाना है। नए प्रस्ताव में सहारा ने कहा है कि तीन कार्य दिवस के अंदर 2 5०० करोड़ रुपये जमा कर दिए जाएंगे और शेष 2 5०० करोड़ रुपये और 5 ००० करोड़ रुपये की बैंक गारंटी अगले 6० दिनों के अंदर जमा कर दी जाएगी। प्रस्ताव के मुताबिक  पहले राय को रिहा किया जाना चाहिए और सहारा समूह की कंपनियों एसआईआरईसीएल और एसएचआईसीएल तथा अन्य के खातों तथा अन्य संपत्तियों पर से लगाई गई रोक हटाई जानी चाहिए। अदालत ने कहा कि वह प्रस्ताव पर सोमवार को विचार करेगी। नया प्रस्ताव सोमवार की सुनवाई के आखिर में वकील राजीव धवन ने पेश किया। अदालत राय की याचिका की सुनवाई कर रही थी  जिसमें राय और एसआईआरईसीएल तथा एसएचआईसीएल के दो अन्य निदेशकों को हिरासत में भेजने के अदालत के चार मार्च के आदेश को चुनौती दी गई है। अदालत ने 31 अगस्त 2०12 और पांच दिसंबर 2०12 के आदेश के जरिए सहारा समूह की दोनों कंपनियों को सेबी के जरिए निवेशकों को 24 हजार करोड़ रुपये लौटाने का आदेश दिया था। सहारा ने 5 12० करोड़ रुपये जमा कर दिए थे  लेकिन बाकी राशि का अब तक भुगतान नहीं किया गया है। सर्वोच्च न्यायालय ने 26 मार्च 2०14 को राय से कहा था कि न्यायिक हिरासत से अंतरिम जमानत पर रिहाई के लिए उन्हें अदालत की रजिस्ट्री में 1० करोड़ रुपये जमा करना होगा। अदालत ने कहा था कि 1० हजार करोड़ रुपये में से पांच हजार करोड़ रुपये नकद और शेष पांच हजार करोड़ रुपये की किसी राष्ट्रीयकृत बैंक गारंटी जमा करनी होगी  जो बाजार नियामक सेबी के पक्ष में देय होगी।

 

अदालत ने कहा था कि अदालत की रजिस्ट्री से यह राशि सेबी को दे दी जाएगी। इस मामले की अगली सुनवाई सोमवार को होगी।

Unique Visitors

12,977,370
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button