अजब-गजबदस्तक-विशेष

सोना हुआ दुर्लभ,चांदी देकर विदा कर रहे बेटी

golरायपुर । छत्तीसगढ़ में विवाहोंका दौर शुरू हो गया है। शादी-ब्याह में बेटी को सोने-चांदी के गहने देकर विदा करना हर माता-पिता का ख्वाब होता है  लेकिन पिछले दो वर्षों में महंगाई इतनी बढ़ गई है कि मध्यवर्गीय परिवारों का यह ख्वाब पूरा नहीं हो पा रहा है। वे बेटियों को चांदी देकर विदा कर रहे हैं। सोने की बढ़ती कीमत से सिर्फ मध्यवर्गीय परिवार ही नहीं  कस्बाई इलाकों के छोटे सर्राफा कारोबारी भी परेशान हैं। शादियों के सीजन में सबसे ज्यादा कारोबार सोने का होता था  मगर इस बार सोने का कारोबार पुराने आंकड़ों को भी पार नहीं कर पाया है। छत्तीसगढ़ के कस्बाई इलाके धमतरी और महासमुंद के व्यापारियों की मानें तो महंगाई के कारण गरीब वर्ग तो पहले से ही सोने से दूर है  अब मध्यवर्गीय भी सोना खरीदने से हिचकने लगे हैं। पहले की अपेक्षा सोने का कारोबार 4० फीसदी भी नहीं रह गया है। अधिकांश तो अब चांदी से ही काम चला रहे हैं। ज्यादातर लोग अंगूठी भी चांदी की खरीद रहे हैं। रायपुर के बुजुर्ग अनमोल राठी बताते हैं कि 2० साल पहले सोना 4 598 रुपये तोला  1० साल पहले 5 85० रुपये तोला बिक रहा था  वही पीला धातु आज 29 2०० रुपये तोला हो गया है। वर्ष 2०13 में सोने के भाव में रिकार्ड तेजी आई और 35 1०० रुपये तक पहुंच गया था। गरीब एवं मध्यवर्गीय परिवारों को 1० ग्राम सोना लेने के लिए भी सोचना पड़ रहा है। भाव सुनकर ही कई लोग मायूस हो जाते हैं और खरीद नहीं पाते। सराफा कारोबारी ऋषभ जैन बताते हैं कि 89 साल पहले 1925 में सोने का रेट महज 18 रुपये 75 पैसा था। वर्ष 2००6 तक सोने के भाव में सामान्य वृद्धि हुई  लेकिन वर्ष 2००7 में भाव 1० हजार 8०० रुपये हुआ। इसके बाद सोना में जो तेजी का दौर शुरू हुआ  वह आज भी जारी है। जानकारों का कहना है कि सोना में तेजी निवेश बढ़ने से आई है। समृद्ध वर्ग के अधिकांश लोग अब सोने में निवेश करने लगे हैं। सर्राफा व्यवसायी हेमराज छाजेड़ का कहना है कि सोने के रेट में तेजी जरूर आई है  लेकिन खरीददारी ज्यादा प्रभावित नहीं हुई। यह अलग बात है कि खरीदारों में बड़ी संख्या उच्च वर्ग के लोगों की रहती है।  उन्होंने बताया कि वर्तमान में 1० ग्राम 24 कैरेट सोने का भाव 29 2०० तथा 1० ग्राम 23 कैरेट सोने का भाव 28 2०० है। 1० ग्राम चांदी 43० रुपये है। होली के बाद से सोने का भाव कम हुआ है  फिर भी फैंसी ज्वेलरी की डिमांड ज्यादा है।

Unique Visitors

12,946,887
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button