130 करोड़ भारतीयों के हितों की रक्षा करना, हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रयागराज : वायुसेना के विशेष विमान से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10:30 बजे बमरौली एयरपोर्ट पर पहुंचे। प्रयागराज पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्यपाल आनंदी बेन के साथ स्वागत किया। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हेलीकॉप्टर से परेड मैदान पहुंचे। पीएम मोदी प्रयागराज में खास 300 दिव्यांगों और वृद्धजनों के बीच है। एयरपोर्ट पर स्वागत के बाद पीएम नरेंद्र मोदी परेड मैदान में हेलिकॉप्टर के बेड़े के साथ पहुंचे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दस दिव्यांगजन को उपकरण प्रदान करने के बाद उनको संबोधित भी किया। उन्होंने कहा कि संगमनगरी में आने के बाद असीम ऊर्जा का संचार होता है। करीब एक वर्ष पहले प्रयागराज में कुंभ के दौरान मुझे विशेष आशीर्वाद मिला था। यहां पर महाकुंभ के दौरान मैंने सफाईकर्मियों के पैर धोकर बड़ा आशीर्वाद प्राप्त किया। यह सभी महान कार्य में लगे थे, ऐसे लोगों का आशीर्वाद बेहद जरूर है। मुझे इनके चरण को धोने के साथ इनके बीच रहने का अनोखा अनुभव मिला। उन्होंने कहा कि आज भी कुछ ऐसा ही सौभाग्य मुझे मां गंगा के तट पर प्राप्त हुआ है। प्रधानसेवक के तौर पर मुझे हजारों दिव्यांगजनों, वरिष्ठ जनों की सेवा करने का अवसर मिला है। थोड़ी देर पहले यहां करीब 27 हजार साथियों को उपकरण दिए गए हैं। बीते वर्ष संगमनगरी पूरी दुनिया में प्रयागराज की एक नई पहचान बनी। कुंभ में एक नई परंपरा नजर आई और उसे सफल करने वाले उन सफाई कर्मचारियों के चरण धोने का और मुझे इस महान सिद्धि को पाने वाले उन सफाई कर्मचारियों को नमन करने का अवसर मिला था। वो सफाई कर्मचारी जो ऐतिहासिक कुम्भ की पवित्रता बढ़ा रहे थें और जिनके परिश्रम और पुरुषार्थ के कारण पूरे विश्व में प्रयागराज के इस कुम्भ की स्वच्छता की चर्चा हुई। हर व्यकित का भला हो, सभी का विकास हो; यही तो हमारा सबका साथ, सबका विकास है। उन्होंने कहा कि तीर्थराज, प्रयागराज में आकर हमेशा ही एक अलग पवित्रता और ऊर्जा का एहसास होता है। बीते वर्ष फरवरी में मैं कुंभ के दौरान इस पवित्र धरती पर आया था। तब संगम में स्नान करके और उसके साथ-साथ मुझे एक और सौभाग्य मिला था।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री के साथ अन्य सभी का स्वागत करने के साथ कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में प्रयागराज में कुंभ का सफल आयोजन करने के बाद हम लोग लगातार प्रगति के पथ पर हैं। वह आज दिव्यांजनों के बीच पधारे हैं, उनके कारण ही इनको समाज की मुख्यधारा में आने का अवसर मिला है। प्रदेश में साढ़े दस लाख से अधिक दिव्यांगजन को पेंशन की राशि में इजाफा किया गया है। अब इनको मोटराइज्ड ट्राइसाइकिल प्रदान की जा रही है। प्रयागराज में दिव्यांगजनों का यह महाकुम्भ विश्व में बड़ा संदेश देगा। शिविर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सम्बोधन से पहले सामाजिक अधिकारिता मंत्री थावर चंद्र गहलौत ने सभी का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में हम लोग दिव्यांग तथा वृद्धजनों के काम में हम लोग आगे बढ़ते ही जा रहे हैं। हमने प्रयागराज में तीन नये विश्व रिकार्ड कल ही बनाया है। अब देश के सभी दिव्यांग तथा वृद्धजनों को हमने ऐसा परिचय पत्र प्रदान करने का काम शुरू कर दिया है, जिसका लाभ उनको देश के हर राज्य में मिलेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संगमनगरी में आगमन को लेकर हर तरफ चौकसी है। पीएम मोदी प्रयागराज की धरती से लोगों को स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण और समरसता का भी संदेश देंगे। परेड मैदान में वह 27 हजार दिव्यांगजन व वृद्धजन को उपकरण वितरण समारोह में शामिल होंगे। वह दस दिव्यांगजन को अपने हाथ से उपकरण देकर उनसे अलग से मन की बात भी करेंगे।दिव्यांगजन को उपकरण वितरण समारोह में बनने वाले रिकार्ड दर्ज करने के लिए गिनीज बुक की टीम शुक्रवार को ही पहुंच गई थी। आयोजन की व्यवस्था कुछ ऐसी की गई थी कि एक रिकार्ड शुक्रवार रात में विश्व रिकार्ड बन गया। यह विश्व कीर्तिमान 1.8 किमी की ट्राई साइकिलों पर दिव्यांगजन की परेड का बना है। माघ मेला प्रशासन कार्यालय के सामने संगम वापसी मार्ग पर ठीक 1.8 किमी की ट्राई साइकिलों की लंबी परेड कराई गई। इस पर तीन सौ ही दिव्यांगजन बैठाए गए थे। यहां चलती हुई ट्राई साइकिलों की परेड की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी कराई गई। लंदन से आई टीम ने इस रिकॉर्ड पर मुहर लगा दी। इसके बाद शनिवार सुबह छह सौ व्हील चेयर की सबसे लंबी परेड और लाइन का रिकॉर्ड बना। इसमें चार सौ व्हील चेयर शामिल थीं। जिस पर दिव्यांगजन बैठे रहेंगे। इसके बाद एक घंटे बाद छह सौ ट्राई साइकिलों के वितरण का विश्व कीर्तिमान परेड मैदान स्थित कार्यक्रम स्थल पर बना। इन तीनों विश्व रिकॉर्ड के प्रमाण पत्र शनिवार को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम जारी करेगी। परेड ग्राउंड में आयोजित कार्यक्रम में जो दिव्यांग जन और वृद्ध उपहार में मिले उपकरण घर तक नहीं ले जा पाएंगे, उनके उपकरण घर तक पहुंचाने की व्यवस्था जिला प्रशासन की ओर से की गई है। प्रशासन की ओर से स्पष्ट किया गया है अगर दिव्यांग जन अपने घर तक उपकरण नहीं ले जा पा रहे हैं तो उसे पहुंचाने की जिम्मेदारी हमारी रहेगी। इसके अलावा आयोजन स्थल पर सभी दिव्यांग एवं वृद्ध जनों को ब्लॉक वार बैठाया जाएगा। जिससे उपकरण वितरित आसानी से हो सके। प्रधानमंत्री परेड मैदान में कार्यक्रम स्थल पर लगभग दो घंटे रहेंगे। इसके बाद हेलीकॉप्टर से चित्रकूट रवाना होंगे। वहां से बमरौली एयरपोर्ट लौटकर शाम को भारतीय वायुसेना के विशेष वायुयान से दिल्ली लौट जाएंगे। पीएम मोदी का स्वागत करने राज्यपाल आनंदी बेन पटेल व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दस बजे बमरौली एयरपोर्ट पहुंचेंगे। वहां से समारोह स्थल आएंगे। इस कार्यक्रम में शामिल होने केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉ. थावरचंद गहलोत समेत कई मंत्री शुक्रवार को प्रयागराज पहुंच गए। इनके साथ योगी आदित्यनाथ के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, प्रभारी मंत्री प्रयागराज महेंद्र सिंह, कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, नंद गोपाल गुप्ता नंदी के साथ स्थानीय सांसद डा. रीता बहुगुणा जोशी, केशरी देवी पटेल, विनोद सोनकर एवं स्थानीय विधायक आदि भी शामिल होंगे। इस कार्यक्रम की सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर परेड मैदान से संगम तट तक सील कर दिया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन से एक रोज पहले सुरक्षा तैयारी पूरी कर ली गई। दोपहर में हेलीपैड से मंच तक पीएम फ्लीट का रिहर्सल किया गया। पुलिस और पैरा मिलेट्री फोर्स भी आ गई। सुरक्षा बलों को उनकी ड्यूटी के बारे में ब्रीफ किया गया। एसपीजी ने पंडाल और हेलीपैड पर सुरक्षा की बागडोर अपने कब्जे में ले ली। परेड मैदान में शनिवार को होने वाले कार्यक्रम में शांति और सुरक्षा व्यवस्था की कमान बुधवार को ही स्पेशल टास्क फोर्स यानी एसपीजी ने अपने हाथों में ले ली थी। एसपीजी के आइजी आलोक शर्मा समेत कई अफसरों ने स्थानीय अधिकारियों के साथ लगातार निरीक्षण कर कार्यक्रम स्थल की जबरदस्त किलेबंदी की है। शनिवार को हेलीपैड पर पीएम का हेलीकॉप्टर उतरने के बाद फ्लीट बमुश्किल तीन सौ मीटर दूर स्थित मंच तक जाएगी। पीएम के काफिले की दो विशेष रेंज रोवर कार यहां आ चुकी है। एसपीजी ने पीएम मोदी की फ्लीट का रिहर्सल किया। हेलीपैड से फ्लीट की गाडिय़ा रवाना होकर मंच तक पहुंची। एडीजी जोन, आइजी रेंज, एसएसपी भी एसपीजी के अधिकारियों के साथ सुरक्षा समेत अन्य व्यवस्था की देखरेख में लगे रहे।

कार्यक्रम स्थल पर सुरक्षा जांच के बाद ही लोगों को पंडाल में प्रवेश करने दिया जाएगा। पंडाल से पहले बीस से ज्यादा डीएफएमडी यानी डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर लगाए गए हैैं। लोगों को डीएफएमडी से होकर जाना होगा। आइजी रेंज केपी सिंह ने बताया कि सुरक्षा तैयारी पूरी कर ली गई है। प्रधानमंत्री जिन तीन सौ लाभार्थियों के साथ मन की बात करेंगे, उसका सीधा प्रसारण भी होगा। पंडालों में बैठे अन्य लाभार्थियों के लिए 40 एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैैं, जिससे वे देख सकेंगे। मन की बात के लिए अलग से पंडाल बना है जिसे चारों ओर से घेर दिया गया है।