अयोध्या: आडवाणी, जोशी को निमंत्रण का इंतजार, किसी ने नहीं किया सम्पर्क

लखनऊ, 2 अगस्त, दस्तक (ब्यूरो) : रामनगरी अयोध्या में मंदिर आंदोलन के नायकों में शामिल भाजपा के मार्गदर्शक मंडल की अग्रणी पंक्ति के नेताओं पूर्व डिप्टी पीएम लालकृष्ण आडवाणी तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. मुरली मनोहर जोशी के लिए इंतजार की घडिय़ां बेहद लम्बी होती जा रही है। 92 वर्षीय आडवाणी तथा 86 वर्षीय डॉ. जोशी को पांच अगस्त को अयोध्या में होने वाले श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन तथा शिलान्यास कार्यक्रम का निमंत्रण मिलने का इंतजार है। कार्यक्रम में सिर्फ 72 घंटे का समय शेष है, लेकिन इस बुजुर्गों को अभी तक किसी ने पूछा तक नही है। माना जा रहा है कि इनको वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से भूमि पूजन तथा शिलान्यास कार्यक्रम से जोड़ा जाएगा।

अयोध्या में श्रराम मंदिर के भूमि पूजन में शामिल होने के लिए भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी और डॉ. मुरली मनोहर जोशी को अभी तक निमंत्रण नहीं मिला है। इनको न तो अभी पीएमओ की तरफ से और न ही श्री राम जन्मभूमि क्षेत्र ट्रस्ट की तरफ से कोई निमंत्रण मिला है। निमंत्रण को दूर की बात है, अभी तक फोन भी नहीं किया गया है। ट्रस्ट की तरफ से अब तक सम्पर्क भी नहीं किया गया। यह दोनों दिग्गज नेता राम मंदिर के आंदोलन में शामिल रहे हैं। यह दोनों अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस के मामले में सीबीआइ कोर्ट में लगातार बयान भी दर्ज करा रहे हैं।

राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री, उमा भारती, पूर्व सांसद विनय कटियार को तो भूमि पूजन के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए न्यौता भेज दिया गया है। अयोध्या में पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन है। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण इसमें देश भर के चुनिंदा 170-180 लोगों के साथ पीएम नरेंद्र मोदी वहां मौजूद होंगे। इस भव्य आयोजन को भाजपा के दो दिग्गज शायद वर्चुअल ही देख सकेंगे।