बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद लखनऊ में पक्षी बाड़े दर्शकों के लिए पूरी तरह बंद

बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद लखनऊ में पक्षी बाड़े दर्शकों के लिए पूरी तरह बंद

लखनऊ : कानपुर प्राणी उद्यान में बर्ड फ्लू के कुछ पॉजिटिव मामले पाए जाने के बाद लखनऊ प्राणी उद्यान में इसके मद्देनजर कई कदम उठाए गए हैं। सभी दर्शकों के लिए पक्षी बाड़े पूरी तरह बंद कर दिए गए हैं। पक्षी बाड़ों में कीपर एवं सफाई कर्मियों को पीपीई किट पहन कर ही सफाई और भोजन देने के लिए प्रवेश दिया जा रहा है।

प्राणी उद्यान के निदेशक आरके सिंह ने बताया

एहतियात के तौर पर प्राणी उद्यान में किसी भी प्रकार के बाहरी वाहनों का प्रवेश पूरी तरह वर्जित कर दिया गया है। प्राणी उद्यान में प्रवेश करने वाले सभी दर्शक एवं कर्मचारियों को फुटवॉश का प्रयोग करके तथा हाथों के सेनेटाइजेशन के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। सभी बाड़ों विशेष तौर पर पक्षियों के बाड़ों का सेनेटाइजेशन किया जा रहा है तथा बाड़ों के अगल-बगल चूने का छिड़काव भी किया जा रहा है।

मुर्गा व अण्डों को बंद किया गया

उन्होंने बताया कि प्राणी उद्यान में बर्ड फ्लू के प्रकोप को देखते हुए अभी कुछ समय के लिए भोजन में दिए जाने वाले मुर्गा व अण्डों को बंद कर दिया गया है।

यह भी पढ़े:- UP में योगी सरकार Zero tolerance की नीति पर कर रही काम 

  1. देश दुनिया की ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहेंdastaktimes.org  के साथ।
  2. फेसबुक पर फॉलों करने के लिएhttps://www.facebook.com/dastak.times.9
  3. ट्विटर पर पर फॉलों करनेके लिएhttps://twitter.com/TimesDastak
  4. साथ ही देश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों केन्यूज़वीडियोआप देख सकते हैं।
  5. youtube चैनल के लिएhttps://www.youtube.com/c/DastakTimes/videos

बर्ड फ्लू के प्रोटोकॉल फॉलो होगा

पक्षियों के बाड़ों के अंदर या बाहर किसी भी पक्षी में किसी प्रकार के लक्षण प्रतीत होते हैं तो उसे तुरंत विस्तृत जांच के लिए भेजा जाएगा। इसके साथ ही प्राणी उद्यान परिसर के अंदर यदि किसी पक्षी की मृत्यु होती है तो उसे बर्ड फ्लू के प्रोटोकॉल के उपरांत सारी सतर्कता बरतते हुए जांच के लिए भेजा जाएगा।

बर्ड फ्लू के बारे में किया जागरूक

उन्होंने बताया कि पक्षी बाड़े के कीपरों को बर्ड फ्लू के बारे में जागरूक किया गया है, जिससे वह सतर्क रहे। प्राणी उद्यान में दिए जाने वाले भोजन को पोटैशियम परमैंगनेट के घोल से साफ करके ही वन्य जीवों को दिया जा रहा है। सभी पक्षियों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए विशेष तौर पर औषधियां दी जा रही हैं। प्राणी उद्यान में बर्ड फ्लू के लिए अलग से आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था भी की गई है।