Entertainment News -मनोरंजन

शास्त्रीय नृत्यांगना गरिमा हजारिका का हुआ निधन, 83 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

मुंबई: शास्त्रीय नृत्यांगना गरिमा हजारिका (Dancer Gorima Hazarika Passes Away) का निधन हो गया है। उनकी मौत गुरुवार दोपहर करीब 1 बजे गुवाहाटी के उलुबारी में उनके आवास पर हुई। मृत्यु के समय वे 83 साल की थी। नृत्यांगना गरिमा हजारिका के अचानक निधन से पूरे राज्य में शोक की छाया है। वह अपने पीछे एक पोती, एक बेटा और एक बहू छोड़ गई है। उनके पति कृष्णमूर्ति हजारिका जो भी एक शास्त्रीय नर्तक थे, उनका कुछ साल पहले निधन हो गया था। हजारिका, जिन्होंने असम के लोकप्रिय शास्त्रीय नृत्य, सत्त्रिया नृत्य रूप में महिला डांसर के तौर पर जाना जाता था। वह एक कुशल ओडिसी और कथक नर्तकी भी थी।

हजारिका ने कम उम्र में गुरु चारु बोरदोलोई के संरक्षण में कथक में प्रशिक्षण शुरू किया, और बाद में उन्होंने कमलाबाड़ी सत्र के गुरु रोशेश्वर सैकिया और बोरबायन घाना कांता बोरा के मार्गदर्शन में सत्त्रिया का अध्ययन किया था। वह 1968 तक दिल्ली में रहीं, जबकि वह दिल्ली स्कूल ऑफ आर्ट में छात्रा थीं। जब उनका सामना ओडिसी नर्तकी इंद्राणी रहमान से हुआ, तो उन्होंने ओडिसी और सत्त्रिया के दो नृत्य रूपों में सामान्य तत्वों को पहचाना। इसके बाद वह गुरु सुरेंद्र नाथ जेना की पहली असमिया शिष्या बनीं और ओडिसी नृत्य सीखना शुरू किया।

असम लौटने पर, हजारिका ने शास्त्रीय और पारंपरिक नृत्यों के लिए एक केंद्र मिताली कला केंद्र की स्थापना की, जहां उन्होंने कोरियोग्राफी, कला निर्देशन, पेंटिंग, मुखौटा बनाना और पोशाक डिजाइन करना भी सिखाया।

Unique Visitors

13,040,607
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button