State News- राज्यTOP NEWSदिल्लीफीचर्ड

CM केजरीवाल ने दिए निर्देश, कोटा में फंसे छात्रों को लाया जाये दिल्ली

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के आदेश के बाद दिल्ली सरकार दूसरे राज्यों में फंसे छात्रों को लाने की तैयारी में जुट गई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अधिकारियों से इसकी योजना बनाने के लिए कहा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दूसरे राज्यों में फंसे दिल्ली के लोगों से भी कहा कि हम संबंधित राज्य सरकारों से बात कर रहे हैं। योजना बनाकर आपको एक-दो दिन में सूचित करेंगे।

सीएम ने ट्वीट किया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा प्रवासियों के संबंध में आदेश पारित किया गया है। हम आपको एक-दो दिन में आगे की कार्रवाई के बारे में सूचित करेंगे। तब तक आप घर पर ही रहें और लॉकडाउन का पालन करें।

800 छात्र कोटा में फंसे

दिल्ली के करीब 800 छात्र राजस्थान के कोटा में फंसे हुए हैं। वहीं बड़ी संख्या में छात्र बेंगलुरु में भी फंस गए हैं। उधर, काम-धंधा बंद होने के चलते उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड व मध्य प्रदेश के हजारों लोग दिल्ली में पिछले एक माह से खाली बैठे हैं। वे अपने घर जाना चाहते हैं। 28 मार्च को इसका प्रमाण भी मिला था, जब बड़ी संख्या में लोग आनंद विहार बस अड्डा पहुंच गए थे। तब करीब 40 हजार लोग उत्तर प्रदेश, बिहार भेजे गए थे। अभी भी यहां ऐसे लोगों की संख्या लाखों में है।

प्रवासी श्रमिकों, छात्रों की होगी वापसी

बता दें कि देशव्यापी लॉकडाउन के कारण दूसरे शहरों व राज्यों में फंसे लोगों को केंद्र सरकार ने बड़ी राहत दी है। सरकार ने लॉकडाउन के दौरान ऐसे लोगों को अपने गांव-घर जाने की अनुमति दे दी है। गृह मंत्रालय ने बुधवार को राज्यों को इस संबंध में आदेश जारी किया। इसमें कहा गया है कि फंसे श्रमिकों, छात्रों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों आदि को बसों से उनके गंतव्य तक पहुंचाया जाएगा। जहां लोगों को एक से दूसरे राज्य में जाना होगा, वहां दोनों राज्य आपसी समन्वय से कदम उठाएंगे। इसके लिए नोडल अधिकारियों के जरिये ऐसे लोगों को एक राज्य से भेजा जाएगा और दूसरे राज्य में उन्हें प्रवेश दिया जाएगा। पूरी प्रक्रिया में दो जगह सबको स्क्रीनिंग की प्रक्रिया से गुजरना होगा और 14 दिन होम क्वारंटाइन में रहना होगा।

Unique Visitors

11,306,290
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button