National News - राष्ट्रीयउत्तराखंड

अपराधियों पर ‘डंडा’ चलाने में ‘योगी’ से आगे निकले सीएम धामी

देहरादून (गौरव ममगाईं)। कहा जाता है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के राज में अपराधी खौफजदा रहते हैं, क्योंकि सीएम योगी के राज में अपराधियों को जरा भी बख्शा नहीं जाता। लेकिन, अब इस पहचान से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को भी पहचाना जाने लगा है, क्योंकि सीएम धामी के राज में भी अपराधियों का बुरा हाल है। आपको जानकर हैरानी होगी कि अपराधियों पर डंडा चलाने के मामले में उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने यूपी के सीएम योगी को भी पीछे छोड़ दिया है।

 नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, उत्तराखंड में वर्ष 2021 में अपराधियों के खिलाफ मकोका में 17 मुकदमें दर्ज किये गये थे, जबकि वर्ष 2022 में मुकदमों की संख्या करीब दोगुनी बढ़कर 32 तक पहुंच गई। वहीं, अब उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां वर्ष 2021 में 39 मुकदमें दर्ज किये थे, वर्ष 2022 में यह संख्या घटकर 21 रह गई है। रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2022 में उत्तराखंड पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की। इससे अपराधियों को प्रदेश छोड़कर भी भागना पड़ा है। इन आंकड़ों से साफ पता चलता है कि वर्ष 2022 में उत्तराखंड ने यूपी से भी ज्यादा अपराधियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है।

क्या होता है मकोकाः

मकोका एक्ट अपराध के खिलाफ बनाया गया कानून है, जिसे राज्य द्वारा अधिनियमित किया जाता है। यह कानून राज्य की कानून एवं प्रशासन व्यवस्था को बनाये रखने में बाधा बन रहे असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की शक्ति देता है। इसमें हिंसा, हत्या, अपहरण, किसी की जान के लिए खतरा बनना या अन्य आपराधिक घटनाएं आती हैं। यह राज्य के अधीन सबसे कड़ा कानून है, जिसमें मृत्यु व आजीवन कारावास तक की सजा का प्रावधान होता है।

  एनसीआरबी के ये ताजा आंकड़े आने के बाद अब उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी का नया रूप देखने को मिल रहा है। वैसे बेहद सरल एवं शांत स्वभाव के दिखने वाले सीएम पुष्कर सिंह धामी इससे पहले भी भ्रष्टाचार के खिलाफ भी कड़ा एवं सख्त अंदाज दिखा चुके हैं। सरकारी भर्ती, उत्तरकाशी अवैध वन कटान, उद्यान घोटाला समेत कई भ्रष्टाचार के मामलों में सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कई दोषियो को जेल भिजवाया, साथ ही सरकारी अधिकारी-कमर्चारियों के खिलाफ भी विभागीय कार्रवाई की है। वहीं, शासन में भ्रष्टाचार एवं लापरवाही के आरोप में घिरे बड़े अफसरों को भी सीएम धामी लगातार निशाने पर लिए हुए हैं। भ्रष्टाचार के बाद अब सीएम धामी को अपराधियों पर डंडा चलाने के लिए भी जाना जाने लगा है।

    इससे सीएम धामी ने साफ संदेश भी दिया है कि सुशासन के मार्ग में समस्या बनने वाली हर चुनौती से उन्हें सख्ती से निपटना आता है। सीएम धामी की कड़क एवं कुशल प्रशासक की छवि प्रदेशवासियों को खूब भा रही है।

Related Articles

Back to top button