आईएएमएआई : भारत मोबाइल निर्माण का केंद्र बन गया है : प्रौद्योगिकी मंत्री

आईएएमएआई : भारत मोबाइल निर्माण का केंद्र बन गया है : प्रौद्योगिकी मंत्री

नई दिल्ली : केंद्रीय संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को कहा कि आत्मनिर्भर भारत का मतलब पृथक भारत नहीं है।

इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएएमएआई) द्वारा आयोजित 15वें भारत डिजिटल शिखर सम्मेलन में बोलते हुए, मंत्री ने कहा, आत्मनिर्भर भारत का अर्थ है कि भारत वैश्विक अर्थव्यवस्था में सक्रिय भागीदार है। वैश्विक इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण में भारत का समय आ गया है।

उन्होंने कहा कि भारत मोबाइल निर्माण का केंद्र बन गया है और यह प्रक्रिया अपरिवर्तनीय है।प्रोडक्शन-लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) योजना पर, प्रसाद ने कहा कि सभी शीर्ष वैश्विक कंपनियों ने इसके लिए आवेदन किया है, और आने वाले पांच वर्षों में 10 लाख करोड़ रुपये के मोबाइल फोन और उपकरण बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जिनमें से 7 लाख करोड़ रुपये निर्यात के लिए होंगे।

ये भी पढ़ें :- Health Tips : कड़वाहट से भरा करेला शुगर लेवल को रखता है नियंत्रित – Dastak Times 

  1. देशदुनियाकी ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहेंorg  के साथ।
  2. फेसबुकपरफॉलों करने के लिए : https://www.facebook.com/dastak.times.9
  3. ट्विटरपरपर फॉलों करनेके लिए : https://twitter.com/TimesDastak
  4. साथहीदेश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों के ‘न्यूज़वीडियो’ आप देख सकते हैं।
  5. youtube चैनलकेलिए : https://www.youtube.com/c/DastakTimes/videos

उन्होंने कहा, भारत को लैपटॉप, मशीन से मशीन उपकरण, टैबलेट आदि में सबसे बड़ा विनिर्माण केंद्र निश्चित ही बनना चाहिए। मंत्री ने कहा, मैं उस इकोसिस्टम को विकसित करना चाहता हूं – मोबाइल फोन से लेकर स्मार्टफोन से लेकर टैबलेट से लेकर एम 2 एम उपकरण तक, आईओटी उपकरणों तक – जिसमें भारत इनके निर्माण करने के लिए बहुत बड़ा केंद्र बने।

भारत दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल निर्माता बन गया

यह देखते हुए कि भारत दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल निर्माता बन गया है, प्रसाद ने कहा कि वर्तमान में 268 मोबाइल कारखाने हैं, जबकि2014 में केवल दो कारखाने थे। डिजिटल इंडिया के बारे में बात करते हुए, प्रसाद ने कहा कि इस पहल को विशेष रूप से आम लोगों को सशक्त बनाने और डिजिटल डिवाइड को पाटने और डिजिटल समावेश लाने के लिए लाया किया गया है।