लखनऊ विश्वविद्यालय से बदला 100 सालों का इतिहास, ​मिला कॉपीराइट और ट्रेडमार्क

लखनऊ विश्वविद्यालय से बदला 100 सालों का इतिहास, ​मिला कॉपीराइट और ट्रेडमार्क

लखनऊ: लखनऊ विश्वविद्यालय ने 100 सालों का इतिहास बदल दिया है लखनऊ विश्वविद्यालय को अपने इन-हाउस ऑनलाइन लर्निग पोर्टल स्लेट का पहला कॉपीराइट और ट्रेडमार्क प्राप्त हुआ है, जिसका उद्देश्य इस नवाचार से पैसे कमाना है।

आपको बता दे कि यह कोविड-19 महामारी के मद्देनजर घर में बैठे छात्रों को 360-डिग्री ऑनलाइन कक्षा प्रदान करने के लिए विकसित किया गया था।

लखनऊ विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर प्रोफेसर ए.के. राय ने कहा, यह लखनऊ यूनिवर्सिटी के 100 वर्षों के इतिहास में पहली बार है कि संस्था के नाम पर एक कॉपीराइट पंजीकृत किया गया है।

वाइस चांसलर ने कहा, शिक्षण का ऑनलाइन मोड लॉकडाउन के दौरान एक अच्छे विकल्प के रूप में उभरा, लेकिन यह पूर्ण समाधान प्रदान नहीं करता है।

वाइस चांसलर राय ने कहा, समय की आवश्यकता एक हाइब्रिड सिस्टम की है – ऑनलाइन और ऑन-कैंपस शिक्षा का संयोजन।

उन्होंने कहा कि लखनऊ यूनिवर्सिटी ने कोविड-19 के कम होने के बाद भी हाइब्रिड सिस्टम के साथ आगे बढ़ने का फैसला किया है क्योंकि कन्टेंट को दूरस्थ क्षेत्रों में भी छात्रों तक पहुंचाया जा सकता है।

राय ने कहा, कॉपीराइट का मतलब यह होगा कि स्लेट को अपनाने की इच्छा रखने वाला कोई भी संस्थान हमें रॉयल्टी देकर ऐसा कर सकता है।

देश दुनिया की ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहें www.dastaktimes.org के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए https://www.facebook.com/dastak.times.9 और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @TimesDastak पर क्लिक करें।

साथ ही देश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों के ‘न्यूज़-वीडियो’ आप देख सकते हैं हमारे youtube चैनल https://www.youtube.com/c/DastakTimes/videos पर। तो फिर बने रहिये www.dastaktimes.org के साथ और खुद को रखिये लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड।