भारत दौरा 14 जनवरी को, नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने अलापा पुराना राग

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने अलापा पुराना राग

काठमांडू : नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली का भारत दौरा 14 जनवरी को होगा। उनका यह दौरा ऐसे समय में होने जा रहा है जब पिछले साल सीमा गतिरोध की वजह से दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों में खटास आयी थी। इस ख़ास दौरे से पहले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने एकबार फिर पुराना राग अलापते हुए भारत के कालापानी, लिम्पियाधुरा और लिपुलेख क्षेत्र को लेकर कहा है कि दोनों देशों की बातचीत का यह मुख्य मुद्दा होगा।

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली बोले

नेशनल असेंबली को संबोधित करते हुए नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने रविवार को कहा कि विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली 14 जनवरी को भारत दौरे पर जाएंगे। इस दौरान नेपाल के नये नक्शे पर भी बातचीत होगी और दोनों देशों के बीच बातचीत का यह प्रमुख मुद्दा होगा।

यह भी पढ़े: पूर्व मुख्यमंत्री सहित कई भाजपा नेताओं की घटाई गई सुरक्षा (security reduced )

  1. देशदुनिया की ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहेंorg  के साथ।
  2. फेसबुकपर फॉलों करने के लिए : https://www.facebook.com/dastak.times.9
  3. ट्विटरपर पर फॉलों करनेके लिए : https://twitter.com/TimesDastak
  4. साथही देश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों के ‘न्यूज़वीडियो’ आप देख सकते हैं।
  5. youtube चैनलके लिए : https://www.youtube.com/c/DastakTimes/videos

विवादित नक्शा जारी किया था

दोनों देशों के संबंधों में आई कड़वाहट के बाद पहली बार नेपाल के विदेश मंत्री का भारत दौरा होने जा रहा है। गौरतलब है कि नेपाल सरकार ने पिछले साल भारत के कालापानी, लिम्पियाधुरा और लिपुलेख क्षेत्र पर अपना दावा करते हुए विवादित नक्शा जारी किया था। नेपाल सरकार ने इसके लिए संविधान में संशोधन भी किया था। भारत ने नेपाल के इस कदम का कड़ा प्रतिवाद किया।

चीन के प्रभाव में नेपाल कुछ नए कदम उठा रहा है

माना जा रहा है कि नेपाल की ओली सरकार ने चीन के प्रभाव में आकर भारत के खिलाफ यह कदम उठाया। सीमा पर चीन की भारत के साथ चल रही तनातनी के बीच नेपाल के इस रुख ने साफ कर दिया कि चीन के प्रभाव में नेपाल ऐसे कदम उठा रहा है। इस घटनाक्रम के कारण नेपाल-भारत के बीच कुछ महीनों के लिए संबंधों में कड़वाहट आ गयी थी। हालांकि संबंधों के दोबारा बहाली के लिए दोनों तरफ से लगातार प्रयास किए गए। इसी सिलसिले में भारतीय सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे नेपाल के तीन दिवसीय दौरे पर भी गए थे।