पंजाब नेशनल बैंक ने छह हजार कर्मचारियों का किया तबादला

नई दिल्ली : पंजाब नेशनल बैंक ने छह हजार अधिकारियों के तबादले की लिस्ट जारी कर दी है। इनका अलग-अलग हिस्सों में तबादला किया गया है, कई अधिकारियों को कोरोना काल में मौजूदा तैनाती से तो 2000 किलोमीटर से अधिक की दूरी पर भी तबादला किया गया है। दरअसल आधिकारियों का प्रमोशन भी किया गया है और उनके स्केल में भी बदलाव हुआ है। इस तबादले के बाद अधिकारियों का कहना है कि वह अपना प्रमोशन छोड़ने के लिए तैयार हैं अगर उन्हें कोरोना के चलते कोई दूसरा विकल्प दिया जाता है। लोग प्रमोशन छोड़ना चाहते हैं वहीं पीएनबी का कहना है कि यह तबादले अधिकारियों की इच्छा के अनुसार ही किया गया है, इन अधिकारियों ने अपने विकल्प दिए थे, 3611 अधिकारियों के प्रमोशन और तबादले उनकी इच्छा के अनुसार ही किए गए हैं। अधिकारियों के तबादले दिल्ली से अगरतला, जयपुर से चेन्नई, दिल्ली से कोयंबटूर, राजकोट से कोझिकोड किए गए हैं, जोकि 2000 किलोमीटर दूर हैं।

इन तबादलों का आदेश पिछले हफ्ते जारी किया गया है, जिन अधिकारियों का तबादला किया गया है उसमे असिस्टेंट मैनेजर, मैनेजर, सीनियर मैनेजर स्तर के अधिकारी हैं। इन अधिकारियों ने तबादलों को लेकर अपनी असहमति जाहिर की है। बढ़ेगा खर्च जिन अधिकारियों का तबादला किया गया है उनसे कहा गया है कि एक अंडरटेकिंग साइन करें। जो आर्डर जारी किया गया है उसमे कहा गया है, आपको सलाह दी जाती है कि आप अपने सर्किल ऑफिस में प्रमोशन पर 29 जुलाई तक रिपोर्ट करें ताकि आगे आपकी तैनाती की जा सके। वहीं बैंक के इस फैसले के बाद वॉयस ऑफ बैंकिंग के सचिव अश्विनी राणा का कहना है कि एक तरफ रकार खर्च कम करने की बात कर रही है, दूसरी तरफ बैंक दूसरे राज्यों में तबादले करके खर्च को बढ़ा रहे हैं। कर्मचारी कर रहे हैं विरोध राणा ने कहा कि औसतन एक कर्मचारी के तबादले में तकरीबन एक लाख रुपए का खर्च आता है, लिहाजा सरकार को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए और बैंकों को निर्देश देना चाहिए कि वह कोरोना काल में इन तबादलों को रोकें।

कर्मचारियों का कहना है कि कर्मचारियों को दूसरी जगह पर क्वारेंटीन करने के लिए पैसे खर्च करने पड़ेंगे जिसे कि अनिवार्य किया गया है। क्या कहना है बैंक का वहीं पीएनबी का कहना है कि 1 अप्रैल 2020 तक बैंक के कुल कर्मचारियों की संख्या 1.03 लाख है। पदोन्नति बैंक की रोजमर्रा की प्रक्रिया है जो हर वर्ष होती है। 31 मार्च को ही प्रमोशन की लिस्ट जारी कर दी गई थी ,लेकिन कोरोना की वजह से तबादलों को रोक दिया गया था। अधिकारियों ने अपनी पसंद को भी चयन कर लिया है, इसके आधार पर ही बैंक इसकी स्वीकृति दी है। लोगों के चयन के आधार पर ही 6000 अधिकारियों का तबादला किया गया है। हमने 3611 अधिकारियों को में से 2905 का उनके ही राज्य में तबादला किया है।