आर्मेनिया-अजरबैजान में सुलग रही तोपें और मर रहे लोग, घरों को छोड़ने पर मजबूर

येरेवान (आर्मेनिया) : अजरबैजान व आर्मेनिया के बीच बीते दिनों से भीषण जंग जारी है। इस जंग के दूसरे दिन करीब 21 लोग मारे गए। ये जंग विवादित क्षेत्र नागोनरे और काराबाख पर कब्‍जे को लेकर हो रही है। 2016 के बाद दोनों देशों के बीच हुई ये सबसे भीषण लड़ाई भी बताई जा रही है। दोनों पक्षों का आरोप है कि वो हमले के लिए तोपखाने का जमकर इस्‍तेमाल कर रहे हैं।

आर्मेनिया का आरोप है कि अजरबैजान को हमला करने में तुर्की मदद कर रहा है। इस मुद्दे पर रूस ने भी अजरबैजान का साथ दिया है और कहा है कि तुर्की ने करीब 4 हजार सीरियाई लड़ाकों को इस युद्ध में शामिल होने के लिए अजरबैजान भेजा है। ये बात आर्मेनिया में मौजूद रूस के राजदूत ने कही है। वहीं अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय का कहना है कि उसकी सेना ने ऊंचाई वाले सामरिक महत्व के कई इलाकों पर कब्जा कर लिया है। इस लड़ाई के मद्देनजर विशेषज्ञों का कहना है कि इसमें तुर्की और रूस दोनों ही कूद सकते है। इन दोनों का इस युद्ध में कूदने का मकसद इस जंग को बढ़ावा देना होगा। आपको बता दें कि इस विवादित मुद्दे पर जहां आर्मेनिया का साथ रूस दे रहा है वहीं अजरबैजान के साथ तुर्की खड़ा होता दिखाई दे रहा है।

वहीं दूसरी तरफ इस युद्ध की वजह से हजारों लोग इस क्षेत्र को छोड़कर दूसरी जगह जाने को मजबूर हो गए हैं। इस जंग के बाद कई ऐसे भी हैं जिन्‍होंने अपने घर में बम शेल्‍टर के रूप में तैयार किए गए बेसमेंट में शरण ले रखी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने नमामि गंगे योजना के तहत 6 बड़ी परियोजनाओं का किया उद्घाटन

लड़ाई 1991 में सोवियत संघ के विघटन के साथ ही शुरू हो गई थी। तब नागोर्नो-काराबाख स्वायत्त क्षेत्र को आधिकारिक तौर पर आजाद घोषित किया गया था। दोनों देशों की लड़ाई में अब तक 30 हजार लोगों को जान गंवानी पड़ी है व हजारों लोग बेघर हो चुके हैं।

करीब 4,400 वर्ग किमी में फैला है। क्षेत्र की 95 फीसद आबादी आर्मेनियाई रीति-रिवाज को मानती है। 1993 तक आर्मेनिया न सिर्फ नागोर्नो-काराबाख को अपने नियंत्रण में ले चुका था, बल्कि अजरबैजान के 20 फीसदी हिस्से पर भी कब्जा जमा चुका था। एक साल बाद रूस के हस्तक्षेप से दोनों देशों में संघर्ष विराम समझौता हुआ। हालांकि, अजरबैजान नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र को अपना मानता है। आर्मेनिया व अजरबैजान की लड़ाई में रूस व तुर्की की अहम भूमिका रही है। अजरबैजान को तुर्की का समर्थन प्राप्त है, जबकि आर्मेनिया के रूस से प्रगाढ़ रिश्ते हैं। रूस सोवियत राज्यों के कलेक्टिव सिक्योरिटी ट्रीटी ऑर्गनाइजेशन का नेतृत्व भी करता है, जिसमें आर्मेनिया भी शामिल है। दोनों देशों की लड़ाई और तेज हो सकती है। हालांकि, अमेरिका, फ्रांस, रूस व ईरान आदि ने उनसे युद्ध खत्म करने की अपील की है, लेकिन तुर्की ने अजरबैजान के समर्थन की घोषणा की है।

कानपुर में निजी स्कूलों के खिलाफ तोप लेकर प्रदर्शन, देखें वीडियो

दोस्तों देश दुनिया की ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहें www.dastaktimes.org के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए https://www.facebook.com/dastak.times.9 और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @TimesDastak पर क्लिक करें।
साथ ही देश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों के ‘न्यूज़-वीडियो’ आप देख सकते हैं हमारे youtube चैनल https://www.youtube.com/c/DastakTimes/videos पर। तो फिर बने रहिये www.dastaktimes.org के साथ और खुद को रखिये लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड।