State News- राज्यछत्तीसगढ़

किसानों को अब तक 4.98 लाख मीटरिक टन रासायनिक खाद वितरित

रायपुर : खरीफ सीजन शुरू होते ही रासायनिक खादों के उठाव में तेजी आयी है। किसानों को अब तक 4.98 लाख मीटरिक टन से अधिक रासायनिक खाद का वितरण किया जा चुका है। यह आंकड़ा बीते खरीफ सीजन में 20 जून तक वितरित 2.32 लाख मीटरिक टन उर्वरक की तुलना में 2.66 लाख अधिक है। डबल लॉक, सहकारी समितियों में आज की स्थिति में 2.03 लाख मीटरिक टन तथा निजी क्षेत्र में 2.11 लाख मीटरिक टन खाद आज की स्थिति में वितरण हेतु उपलब्ध है।

राज्य में चालू खरीफ सीजन में 13.70 लाख मीटरिक टन रासायनिक उर्वरक के के लक्ष्य के विरूद्ध अब तक 9.13 लाख मीटरिक टन खाद भण्डारित है, जो कि लक्ष्य का 67 प्रतिशत है। सहकारी समितियों एवं निजी क्षेत्रों के माध्यम से किसानों को अब तक 4.98 लाख मीटरिक टन खाद का वितरण किया गया है, जो कि भण्डारण की मात्रा का मात्र 55 फीसद है। कृषि विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार आज की स्थिति में 4.15 लाख मीटरिक टन खाद वितरण हेतु उपलब्ध है, जिसमें मार्कफेड एवं सहकारी समिति के पास 2.03 लाख तथा निजी क्षेत्र में 2.11 लाख मीटरिक टन रासायनिक उर्वरक भण्डारित है। खरीफ सीजन 2021 में राज्य में 20 जून की अवधि में किसानों द्वारा मात्र 2.32 लाख मीटरिक टन खाद का उठाव किया गया था, जबकि इस साल 20 जून तक 4.98 लाख मीटरिक टन खाद का उठाव किसान कर चुके है।

अपर संचालक कृषि ए.सी. पदम ने बताया कि आज की स्थिति में 2 लाख 16 हजार 247 मीटरिक टन यूरिया, 46 हजार 587 मीटरिक टन डीएपी, 33 हजार 854 मीटरिक टन एनपीके, 25 हजार 759 मीटरिक टन पोटाश, 92 हजार 687 मीटरिक टन सुपर फॉस्फेट भण्डारित है। उन्होंने बताया कि राज्य में रासायनिक उर्वरकों की आपूर्ति के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे है। चालू खरीफ सीजन के लिए भारत सरकार द्वारा 13 लाख 70 हजार मीटरिक टन उर्वरक की आपूर्ति की स्वीकृति दी गई है, जिसके विरूद्ध आज पर्यन्त तक मात्र 5 लाख 88 हजार 73 मीटरिक टन रासायनिक उर्वरक की आपूर्ति की गई है। इसमें यूरिया 3 लाख 19 हजार 562 मीटरिक टन, डीएपी एक लाख 47 हजार 956 मीटरिक टन, एनपीके 29 हजार 885 मीटरिक टन, पोटाश 32 हजार 677 मीटरिक टन, सुपर फॉस्फेट 57 हजार 993 सुपर फॉस्फेट शामिल है।

Unique Visitors

11,451,276
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button