Crime News - अपराधउत्तराखंड

अब पत्थरबाजों की खैर नहीं, सीएम धामी का बड़ा एक्शन

दस्तक ब्यूरो, देहरादून। 8 फरवरी का दिन, देवभूमि उत्तराखंड के लिए सबसे बुरे दिन के रूप में याद रखा जाएगा, क्योंकि इस दिन शांतिप्रिय उत्तराखंड में समुदाय विशेष से जुड़े लोगों ने जिस तरह पत्थरबाजी व आगजनी का हिंसक तांडव किया, ऐसा उत्तराखंड के इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ। अब देवभूमि की शांति में खलल पहुंचाने वाले बनभूलपुरा हिंसा के उपद्रवियों के खिलाफ उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बेहद कड़े तेवर अपना लिए हैं।

वैसे तो इसके संकेत सीएम धामी ने घटना की देर शाम उपद्रवियों पर गोली चलाने के आदेश देने के साथ ही दे दिए थे। अब सीएम धामी ने पुलिस को एक-एक उपद्रवी की पहचान करने के सख्त निर्देश दिए हैं। धामी सरकार इन उपद्रवियों के खिलाफ ऐसी कड़ी कार्रवाई करने का मूड बना चुकी है, जिससे भविष्य में कोई भी ऐसी घटना को अंजाम देने से पहले सौ बार सोचेगा।

उपद्रवियों की खोज में जुटी पुलिस, एडीजी अंशुमन ने डाला डेरा

सीएम धामी के कड़े रूख का असर देर रात से ही नजर आने लगा। पुलिस ने सबसे पहले इलाके में कर्फ्यू लगवाने के साथ ही इंटरनेट सेवा को अस्थायी रूप से बंद कर दिया, ताकि किसी भी तरह की अफवाहें प्रसारित न हों। वहीं, हिंसा के कुछ घंटे बाद ही सीएम धामी के निर्देश पर एडीजी (कानून एवं व्यवस्था) एपी अंशुमन ने प्रभावित क्षेत्र में पहुंचकर मोर्चा संभाल लिया है, ताकि स्थिति को पूरी तरह से नियंत्रण में रखा जा सके। हालातों को नियंत्रित करने के साथ ही पुलिस प्रशासन उपद्रवियों की तलाश में भी जुट गया है। इसके लिए वीडियो फुटेज की मदद से उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। यह भी देखा जाएगा कि पत्थरबाजी किन-किन घरों की छत से की जा रही थी। धामी सरकार यह भी जांच कराएगी कि कहीं इन उपद्रवियों के कनेक्शन किसी राजनीतिक पार्टी से तो नहीं हैं, या उपद्रवियों ने किन्हीं व्यक्ति विशेष के इशारे पर घटना को अंजाम तो नहीं दिया। सीएम धामी द्वारा डीजीपी अभिनव कुमार को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि इस घटना के पीछे यदि कोई कितना भी बड़ा दोषी क्यों न हो, उसे बेनकाब करके कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। आने वाले दिनों में धामी सरकार की बड़ी कार्रवाई भी देखने को मिल सकती हैं। नैनीताल के अलावा कई अन्य जिलों की पीएसी कंपनियों को तैनात किया है, साथ ही केंद्र सरकार से भी अर्ध्दसैनिक बल मंगाए गए हैं।

पथराव-आगजनी में 200 से ज्यादा घायल, 6 मौतें

 बता दें कि 8 फरवरी की दोपहर को हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में पुलिस व नगर निगम की टीम अवैध मदरसे व नमाज स्थल को गिराने पहुंची थी। अवैध अतिक्रमण के खिलाफ प्रशासन की कार्रवाई पर समुदाय विशेष के लोग भड़क गए। कई अराजक तत्वों ने पुलिस व नगर निगम कर्मियों पर पथराव कर दिया। दर्जनों पुलिस व निगमकर्मियों को उपद्रवियों ने कई ओर से घेर लिया और जानलेवा हमले किए गए। उपद्रवियों ने पुलिस प्रशासन के वाहनों को फूंक डाला, यहा तक कि पुलिस थाने को भी आग के हवाले कर डाला। पुलिस प्रशासन के कर्मियों को किसी तरह जान बचाकर भागना पड़ा। चारों तरफ से हो रहे पथराव व हमले में 200 से ज्यादा पुलिस व प्रशासन कर्मी बुरी तरह घायल हुए हैं। जबकि 6 मौतों की भी सूचना है।

Related Articles

Back to top button