State News- राज्यउत्तर प्रदेश

पलायन का मुद्दा राजनैतिक नहीं, प्रदेश की आन-बान-शान का मुद्दा: योगी आदित्यनाथ

शामली। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मुजफ्फरनगर दंगा हो या कैराना से लोगों का पलायन। यह हमारे लिए राजनीतिक मुद्दा नहीं है, बल्कि देश और प्रदेश की आन-बान-शान का मुद्दा रहा है।

मुख्यमंत्री सोमवार को कैराना में थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि कैराना से लोगों का पलायन का मुद्दा राज्य की शान का था। सरकार आई तो कानून व्यवस्था पर जीरो टालरेन्स की व्यवस्था की गई। इसी कारण जो लोग पलायन के लिए लोगों को मजबूर करते थे, वह खुद पलायन के लिए मजबूर हो गए। धमकी की बात तो दूर, ये लोग अब सड़क पर भी नहीं चल सकते।

कैराना में 250 करोड़ की लागत से स्थापित होने वाली पीएसी बटालियन का शिलान्यास करने पहुंचे मुख्यमत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2017 में भी मैं शामली आया था। तब कैराना के बारे में कहा था कि यहां पर सुरक्षा का बेहतर वातावरण देंगे। कैराना की इस पीड़ा को बाबू हुकुम सिंह ने जोर-शोर से उठाया था। आज वह हमारे बीच में नहीं हैं। उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इस क्षेत्र के बारे में जो विकास की सोच थी, उसी को जमीन पर उतारने के लिए हम ढेर सारी योजनाओं के साथ आए हैं।

उन्होंने याद दिलाया कि हमारे सांसद और विधायक के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए थे। जिसमें वरिष्ठ नेता हुकुम सिंह और सुरेश राणा भी शामिल थे। उन्होंने कहा उस समय दंगाइयों को घर बुलाकर सम्मानित किया जाता था। विकास पर कुछ नहीं होता था। तब विकास का मतलब एक परिवार होता है। मोदी जी आए तो गरीब को पक्का मकान दिया, हर गरीब को पांच लाख स्वसथ्य बीमा का कवर, निशल्क गैस कनेक्शन, फ्री बिजली कनेक्शन। 12 करोड़ गरीब किसानों को सम्मान निधि के रूप में समय से रुपया पहुंच जाता है, लेकिन विपक्षियों के पास इनके लिए कोई योजना नहीं थी।

उन्होंने अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा कि पहले नौजवानों को नौकरी नहीं मिलती थी और जब नौकरी की बात आती थी तो पूरा खानदार वसूली पर निकल पड़ता था। योगी ने कहा कि संगीत का बेहतरीन घराना होने के कारण फिल्मी जगत के लिए कैराना महत्वपूर्ण था लेकिन कुछ लोगों ने अपनी नफरत और फितरत के कारण कैराना को बदनाम किया। यहां जो जन व धन हानि हुई है। इस मामले में कुछ पर कार्रवाई हुई है। जो बचे हैं उन पर जल्द कार्रवाई होनी चाहिए।

बोले जो 370 का विरोध करते थे वे लोग तब खुश होते हैं जब मुजफ्फरनगर में दंगा होता है कैराना में पलायन होता है या अफगानिस्तान में तालिबान शासन होता है, लेकिन हम यह नहीं होने देंगे। यह बहन-बेटियों के जीवन को नारकीय बनाता है। देश में जो कुकृत्यों का समर्थन कर रहे हैं, उन्हें प्रदेश में स्वीकार नहीं किया जा सकता।

Unique Visitors

13,063,503
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button