कविता 2020 : जो मेरे चावल खा जाए, ऐसा मित्र कहाँ से लाऊँ

कविता 2020 : जो मेरे चावल खा जाए, ऐसा मित्र कहाँ से लाऊँ

कहाँ कहाँ खोजूँ मैं उसको
किसके दरवाज़े पर जाऊँ
जो मेरे चावल खा जाए
ऐसा मित्र कहाँ से लाऊँ।

जीवन की इस कठिन डगर में
दोस्त हज़ारों मिल जाते हैं
जो मतलब पूरा होने पर
अपनी राह बदल जाते हैं
हरदम साथ निभाने वाला
साथी ढूँढ कहाँ से लाऊँ

जो मेरे चावल खा जाए
ऐसा मित्र कहाँ से लाऊँ।

हार सुनिश्चित मालूम थी पर
साथ न छोड़ा दुर्योधन का
मौत सामने आई फिर भी
पैर न पीछे हटा कर्ण का
मित्रों पर जो जान लुटाएँ
कहाँ खोजने उनको जाऊँ

जो मेरे चावल खा जाए
ऐसा मित्र कहाँ से लाऊँ।

दर्द बयाँ करने पर आए
वे तो साथी कहलाते हैं
मन की बात समझ जाए जो
वे ही मित्र कहे जाते हैं
जिनसे मन के तार जुड़ें वो
किस कोने से ढूँढ के लाऊँ

जो मेरे चावल खा जाए
ऐसा मित्र कहाँ से लाऊँ।

कविता सुनकर बीवी बोली
क्यों नाहक चिन्ता करते हो
जो घर में ही हाज़िर है, तुम
उसको बाहर क्यों तकते हो
मैं ही तो हूँ कर्ण तुम्हारी
और कृष्ण भी मैं ही तो हूँ
अंधकार में साथ न छोड़े
वो परछाईं मैं ही तो हूँ
मुठ्ठी में जो चावल हैं
मुझको दे दो, मैं खा जाऊँगी
अगले सात जनम की ख़ातिर
मित्र आपकी बन जाऊँगी।

प्रदीप सिंह”सिसोदिया”
युथ आइकॉन 2020, 313 विधान सभा ख़लीलाबाद
जिला उपाध्यक्ष सपा, संत कबीर नगर

यह भी पढ़े:- 4 नवम्बर को है करवा चौथ, शास्त्रों में बताया गया है श्रेष्ठ व्रत 

देश दुनिया की ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहेंwww.dastaktimes.orgके साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिएhttps://www.facebook.com/dastak.times.9और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @TimesDastak पर क्लिक करें।

साथ ही देश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों के ‘न्यूज़वीडियो’ आप देख सकते हैं हमारे youtube चैनलhttps://www.youtube.com/c/DastakTimes/videosपर। तो फिर बने रहियेwww.dastaktimes.orgके साथ और खुद को रखिये लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड।