Lifestyle News - जीवनशैलीअजब-गजब

रिलेशनशिप में मजबूती का पता लगाने के लिए कैचअप का इस्तेमाल कर रहीं महिलाएं

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर एक नया चैलेंज वायरल हो रहा है जिसे ‘ketchup challenge’ कहा जा रहा है, जिसके तहत महिलाएं अपने रिलेशनशिप की मजबूती का मूल्यांकन कर रही हैं। इस चैलेंज में, महिलाएं कैचअप गिरा देती हैं और फिर अपने साथी से इसे साफ करने को कहती हैं। यह केवल इतना ही चैलेंज नहीं है। हालांकि सुनने में यह चैलेंज काफी आसान लगता है। आमतोर पर लोग यही कहते हैं कि भला ये भी कोई चैलेंज है। लेकिन कई वीडियो ने साबित किया है कि हां, ये भी एक चैलेंज है।

न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, टिकटॉक पर एक महिला ने इस चैलेंज का वीडियो पोस्ट किया, जिसमें उसके बॉयफ्रेंड ने कैचअप को पेपर टावल से साफ किया। इस वीडियो में लड़की कैचअप गिराती दिखती है और फिर अपने बॉयफ्रेंड से उसे साफ करने को कहती है। वो कहती है कि रिजल्ट देखकर उसे खुशी हुई। उसका बॉयफ्रेंड पेपर टावल से साफ करता है। हालांकि इसी बीच उससे एक गलती हो गई। उसने जमीन पर क्लीनर को स्प्रे कर दिया, जबकि वो केवल लकड़ी पर इस्तेमाल होने वाला क्लीनर था। इसके बाद भी महिला इससे काफी खुश हुई। हालांकि, कुछ वीडियोज़ में साफ हो रहा है कि यह चैलेंज इतना आसान नहीं है। इसमें कुछ साथियों ने सही सफाई की, जबकि कुछ ने ऐसा करने में विफलता दर्शाई।

एक अन्य वीडियो में, महिला के बॉयफ्रेंड ने अच्छी तरह सफाई नहीं की। नैपकिन को गोल गोल घुमाकर सफाई करने के चक्कर में उसने जगह को और गंदा कर दिया। जिससे यह तरीका कई लोगों को पसंद नहीं आया। लोगों ने मजाक उड़ाते हुए कहा कि वो तो कैचअप से पॉलिश कर रहा है। एक यूजर ने तो महिला से इतना तक कह दिया कि वह इसे छोड़ दे। इसे देखकर लोगों ने मजेदार कमेंट्स किए हैं और कहा है कि ये चैलेंज महिलाओं के साथी की सफाई कौशल में रुचि पैदा कर रहा है, लेकिन इसे सीरियसली नहीं लेना चाहिए।

इस चैलेंज के माध्यम से महिलाएं यह जानने की कोशिश कर रही हैं कि क्या उनके साथी उनकी अपेक्षाओं को समझते हैं और क्या वे घर के काम में योग्य हैं। इसे लेकर विवाद हो रहा है, कुछ लोग इसे मजाक मान रहे हैं जबकि कुछ इसे गंभीरता से नहीं लेना चाहते। यह चैलेंज एक सामाजिक दृष्टिकोण से भी देखा जा रहा है, जिसमें कुछ लोग इसे महिलाओं के घरेलू कामों की महत्वपूर्णता को बढ़ावा देने का साधन मान रहे हैं, जबकि दूसरों को यह चिंता है कि इससे ऐसे स्टेरीओटाइप्स को बढ़ावा मिल सकता है जो महिलाओं को और ज्यादा घरेलू कामों में बंधक बना सकते हैं।

Related Articles

Back to top button