Breaking News

हृदयनारायण दीक्षित

दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : विश्व अशांत है। कोरोना महामारी से विश्व मानवता पर व्यथित है। दुनिया भयग्रस्त है। मृत्यु सामने है। चिकित्सा विज्ञान के सामने अभूतपूर्व चुनौती है। ...
Comments Off on कोरोना महामारी से मानवता व्यथित
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : कोरोना महामारी ने दुनिया भर में विषाद अवसाद का वातावरण बनाया है। लोगों में हताशा है। निराशा और आशंका है। मनोवैज्ञानिकों के परामर्श अवसाद ...
Comments Off on कोरोना महामारी से दुनिया में विषाद-अवसाद का वातावरण
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित लखनऊ : कोरोना महामारी है। महमारी की इस अवधि में हजारों विद्वान व विशेषज्ञ प्रकट हो गए हैं। हमारे जैसे विद्यार्थी हलकान हैं। ढेर सारे विद्वान, ...
Comments Off on कोरोना वायरस : सतर्कता की बात ठीक, डराना सही नहीं
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित रविवार पर विशेष स्तम्भ : ‘सोच विचार’ की शक्ति बड़ी है। कुछ लोग सकारात्मक सोचते हैं। वे प्रकृति की घटनाओं में अपने लिए कल्याण देखते हैं। ...
Comments Off on अथर्ववेद में अधिक है रोगों व औषधियों के विवरण
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : कोरोना महामारी को लेकर कई विचार हैं। इसका प्रत्यक्ष कारण वायरस है। चरक संहिता में विस्तार से अनेक रोगों व रोगों के निदान का ...
Comments Off on अखण्ड ब्रह्माण्ड एक जीवमान इकाई है
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षितस्तम्भ : अथर्ववेद भारतीय अनुभूति का मधुरस है। निस्संदेह इसके पूर्व ऋग्वेद में दर्शन और विज्ञान के ज्ञान अभिलेख हैं, प्रकृति के प्रति गहन जिज्ञासा है। मनुष्य ...
Comments Off on अथर्ववेद के रचनाकारों के पास भारतीय दर्शन व ज्ञान विज्ञान की समृद्ध परम्परा
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षितस्तम्भ : घर आनंद है। घर में होना अपनत्व में रहना है। बच्चे बाहर खेलने जाते हैं, खेलने के बाद घर लौट आते हैं। हम सब पूरे ...
Comments Off on कोराना महामारी के दौरान ‘घर’ में ही रहने की अपेक्षा
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : आपातकाल का प्रभाव दोधारी तलवार जैसा होता है। आपदाएं असहाय होने का भाव जगाती हैं। निराश करती हैं। निराशा मन की विशेष चित्तदशा है। ...
Comments Off on ‘विपरीत परिस्थितियों का सामना करना ही पुरुषार्थ है’
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : स्वास्थ्य सुख है और रोगी होना दुख। यह मान्यता भारतीय आयुर्विज्ञान की है। संक्रामक रोगों के रोगी को अलग रखे जाने की जरूरत अथर्ववेद ...
Comments Off on ‘उत्तम मनोबल वाले रोगी शीघ्र स्वस्थ होते हैं’
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : सुख सबकी कामना है। सामान्यतया अपने वातावरण व समाज की अनुकूलता सुख व प्रतिकूलता दुख कही जाती है लेकिन आयु-विज्ञान के महान ग्रंथ चरक ...
Comments Off on स्वस्थ होना सुख है और रूग्ण होना दुख