निकिता मर्डर केस : फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, फांसी की मांग

फरीदाबाद : हरियाणा के बल्लभगढ़ में हुए निकिता हत्याकांड में जनाक्रोश थमता नहीं दिख रहा है। अभी प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है। हत्यारोपियों की फांसी की मांग जोर पकड़ रही है तो वहीं दूसरी हरियाणा सरकार के गृह मंत्री ने कहा है कि इस मामले की सुनवाई फास्टट्रैक कोर्ट में होगी। ताकि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा दिलवाई जा सके।

दीपावली पर इन चीजों का नहीं करना चाहिए दान, माना जाता है अशुभ

हरियाणा के बल्लभगढ़ में हुए निकिता हत्याकांड ने हर किसी को सन्न कर दिया है। इस मामले में आरोपियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई को लेकर चौतरफा दबाव के बीच हरियाणा सरकार ने बड़ा ऐलान किया है। प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि निकिता मर्डर केस की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी। इस फैसले की वजह यह है कि इस केस की सुनवाई रोजाना हो और आरोपियों को शीघ्र सजा दिलवाई जा सके। फरीदाबाद पुलिस को जल्द से जल्द चालान कोर्ट में पेश करने की हिदायत दे दी गई है।

इस मामले में स्थानीय पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही परिवार के सभी सदस्यों को पुलिस सुरक्षा दे दी गई है। पुलिस अधिकारियों का दावा है कि इस मामले में 12 दिनों के अंदर चार्जशीट फाइल कर दी जाएगी। निकिता के घर भी नेताओं का जमघट लगा रहा। बता दें कि अग्रवाल कॉलेज के बाहर निकिता की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। निकिता को अगवा करने में असफल रहने पर ऐसा किया गया।

पुलिस के अनुसार निकिता हत्याकांड में मुख्य आरोपी तौसीफ को हथियार देने वाले नूंह के अजहरुद्दीन को पुलिस ने बुधवार रात गिरफ्तार किया। अजहरुद्दीन गोली मारने के आरोपी तौसीफ के मामा इस्लामुद्दीन के गैंग का बताया जा रहा है।

तौसीफ को जेल भेज दिया गया है। उसके वकील ने मामले को गुडग़ांव ट्रांसफर करने की मांग की है। अजरुद्दीन को भी जेल भेज दिया गया है। निकिता के पिता, मां और भाई तीनों को अलग-अलग गनमैन दिए गए हैं जो 24 घंटे उनके साथ रहेंगे। पुलिस सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने सभी सबूत जुटा लिए हैं। टीम सिर्फ सात दिनों में चार्जशीट पेश कर सकती है लेकिन अफसरों ने 12 दिन का समय लेकर चार्जशीट पेश करने को कहा है।

इधर निकिता के परिवार को सांत्वना देने करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सूरज पाल अम्मू उनके घर पहुंचे। उन्होंने कहा कि अभी इस मामले में 3 गिरफ्तारियां हुई हैं, 30 और होनी बाकी हैं, जो साल 2018 से जांच शुरू होने पर आगे होंगी। अम्मू के अलावा श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के पदाधिकारी और गो रक्षा हिन्दू दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी पहुंचे। सूरज पाल अम्मू ने कहा कि हाथरस कांड पर बोलने वाले कांग्रेस नेता अब चुप हैं, कैंडल मार्च निकालने वाले अब कहां हैं?

देश दुनिया की ताजातरीन सच्ची और अच्छी खबरों को जानने के लिए बनें रहेंwww.dastaktimes.orgके साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिएhttps://www.facebook.com/dastak.times.9और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @TimesDastak पर क्लिक करें।

साथ ही देश और प्रदेश की बड़ी और चुनिंदा खबरों के ‘न्यूज़वीडियो’ आप देख सकते हैं हमारे youtube चैनलhttps://www.youtube.com/c/DastakTimes/videosपर। तो फिर बने रहियेwww.dastaktimes.orgके साथ और खुद को रखिये लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड।FacebookTwitterWhatsAppPinterestEmailShare