जब बना आज़ाद हिंद, जिसने आज़ादी से पहले लहरा दिया तिरंगा

- in संपादकीय

image_5809bc9506726जब हिंदुस्तान फिरंगियो की गुलामी की जंजीरो में जकड़ा हुआ था तब भारत माता का एक वीर सपूत एक ऐसी सेना का गठन कर रहा था जिसने दुशमनो को घुटने टेकने पर मज़बूर कर दिया। आज ही के दिन 21 अक्टूबर 1943 में नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने आज़ाद हिन्द फ़ौज़ का गठन किया। हवाओ मे लहराते इस तिरंगे मे संघर्ष के बाद त्याग छिपा है। इस तिरंगे मे लंबी गुलामी के बाद हिंदुस्तान की आज़ादी का ऐलान छिपा है। वो तारीख थी 15 अगस्त और साल था 1947 जब दिल्ली मे लहराते तिरंगे को देखकर पूरा हिंदुस्तान खुशी से झूम उठा था। एक हफ्ते तक इस आज़ादी का एहसास करने के लिए पूरा हिंदुस्तान सड्को पर उमड़ आया था। लेकिन हिंदुस्तान को हासिल हुई इस आज़ादी के पीछे कई मतवाले क्रांतिकारियों का बलिदान छुपा हुआ था। ऐसे ही अमर सेनानियो ने आज़ादी से पहले हिंदुस्तान को आज़ादी दिलाई थी।

आज ही के दिन दिल्ली मे आज़ादी से पहले समुंदर के बीच अँग्रेजी सत्ता को उखाड़ भारत माता के वीर सपूतो ने देश का झण्डा ऊंचा किया था। आज ही के दिन आज़ादी की यह महागाथा लिखी गई थी,दिल्ली से सैकड़ों किलोमीटर दूर उस अंडमाण्ड निकोबार मे और अँग्रेजी हुकूमत को करारी चोट दी थी अमर सेनानी नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने। यह गाथा उस दौर की है जब अंग्रेजी हुकूमत के अत्याचार से लड़ने और आज़ाद हवा मे साँस लेने की हर देशवासी की हसरत थी। देश मे आज़ादी के अंश जगाने के लिए देश के मतवाले घरो से निकलने लगे। एक ऐसा आंदोलन जिसमे गांधी जी के नेतृत्व से देश भर मे अँग्रेजी हुकूमत के खिलाफ आंदोलन तेज़ी से होने लगा। तो भारत माँ का एक सपूत अंग्रेजी हुकूमत को विदेशी सरज़मीं से ललकार रहा था। इस आंदोलन के आगे चल रहे थे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, और उनके पीछे चल रही थी आज़ाद हिन्द फौज की सेना।

हालात बदल गए, दुनिया के समीकरण बदल गए और जापान जैसा शक्तिशाली देश नेताजी के साथ जा खड़ा हुआ। अंग्रेज़ो को नेताजी और जापान से पहली चोट मिली रंगून मे। नेता जी का सपना था जापान के साथ आगे बढ़ते हुए अंग्रेजी हुकूमत को सीधी टक्कर देना। साल 1943 जापान और आज़ाद हिन्द फौज ने अंडमान निकोबार पर हमला कर दिया और इस संघर्ष मे अँग्रेजी टुकड़ी ने आज़ाद हिन्द फौज के सामने आत्मसमर्पण करने मे जरा भी शर्म महसूस नही की। अंडमाण्ड से अँग्रेजी हुकूमत उखड़ चुकी थी और अंडमाण्ड की कमान नेता जी के हाथ मे थी। आज भी तस्वीरों मे उन दिनो की यादें जिंदा है जब नेताजी ने हिंदुस्तान की सरज़मीं पर देश का पहला झण्डा लहराया और आजादी की पहली हुंकार भरी थी। आजादी अभी बहुत दूर थी लेकिन अंडमाण्ड मे झण्डा लहराना उस ख्वाब का पहला हिस्सा था, जिसे नेताजी ने देखा था। नेताजी चाहते थे की आजाद हिन्द् फौज की ताकत बढ़ाए और एक बार फिर हिंदुस्तान की तरफ बढ़े। लेकिन इसी बीच हुआ वो हादसा जिसने सबकुछ बदल कर रख दिया।

16 अगस्त 1945 जापान के एक विमान मे नेताजी ने उड़ान भरी। नेताजी का मकसद था सोवियत नेताओ से मिलना और भारत की आज़ादी के लिए उनसे मदद माँगना। लेकिन दावा किया जाता है की उड़ान भरने के कुछ ही देर मे विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया और इस दुर्घटना मे नेताजी का देहांत हो गया। नेताजी के देहांत के बाद आज़ाद हिन्द फौज कमजोर पड़ गई। नेताजी ने आज़ाद हिन्द फ़ौज के साथ जो ख्वाब देखा था वह उनकी आंखो के सामने पूरा नही हो सका। लेकिन अंडमाण्ड मे जो झण्डा नेताजी ने 1943 मे लहराया था वह तिरंगा बन कर 4 साल बाद लहराया। नेताजी का अधूरा ख्वाब 1947 मे पूरा हुआ। अँग्रेजी हुकूमत का सूर्यास्त हुआ और हिंदुस्तान की आजादी का नया सूरज मुस्कुरा उठा। अगर इतिहास 1947 याद है तो साथियो याद रखिएगा 1943 की उस तारीख को जब नेताजी ने आजादी की पहली दीवार खड़ी की थी।